Logo Jago pahad news

उत्तराखंड के बारे में 10 तथ्य (10 Facts about Uttarakhand)

आजकल की व्यस्त जीवनशैली में, यह कहना सुरक्षित है कि शांति का सबसे बड़ा स्रोत पहाड़ है। जब हम पहाड़ों के बारे में सोचते हैं, तो हमारे दिमाग में हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड आते हैं, जो भारत की दो देवभूमि हैं। उत्तराखंड भारत का 27वां राज्य है, जिसे 9 नवंबर 2000 को उत्तर प्रदेश से अलग करके बनाया गया था। यहां मुख्य रूप से कुमाऊं और गढ़वाल नामक दो मंडल हैं। इस राज्य की सुंदरता और प्राकृतिक समृद्धि इसे पर्यटन योग्य बनाती है। चलिए, उत्तराखंड के शीर्ष रोचक तथ्यों में झांकते हैं।

उत्तराखंड के बारे में तथ्य (Facts about Uttarakhand):

  • उत्तराखंड अपनी सुंदरता और हरियाली के लिए जाना जाता है।
  • यहां पुरापाषाण काल में भी निवास किया गया है।
  • ‘झोड़ा’ उत्तराखंड का पारंपरिक संगीत रूप है।
  • ‘छोलिया’ उत्तराखंड का पारंपरिक नृत्य रूप है।
  • यहां से भारतीय सेना को सबसे अधिक अधिकारी मिलते हैं।
  • उत्तराखंड से कई शीर्ष सैन्य और सुरक्षा पदों पर लोग हैं।
  • 2010 में, यहां संस्कृत को राज्य की दूसरी आधिकारिक भाषा घोषित किया गया था।
  • यहां भारत का दूसरा सूर्य मंदिर स्थित है।
  • ऋषिकेश योग राजधानी है।
  • यहां वन क्षेत्र बढ़ रहा है, जो बहुत महत्वपूर्ण है।
  • यहां विश्व का सबसे ऊंचा शिव मंदिर स्थित है।

सामान्य प्रश्न (FAQ):

  • उत्तराखंड की विशेषता क्या है?
  • उत्तराखंड का पुराना नाम क्या है?
  • उत्तराखंड में विशेष क्या है?

उत्तराखंड की विशेषता क्या है?

Char Dham Yatra 2024 How to Register Online Documents Required Registration Fee and Other Important Details

उत्तराखंड में अनेक धार्मिक मंदिर हैं और कई स्थानों का धार्मिक महत्व है, जिसके कारण यह प्रसिद्ध है।

उत्तराखंड का पुराना नाम क्या है?

उत्तराखंड का पुराना नाम उत्तरांचल था। लोग अभी भी इस राज्य के लिए दोनों नामों का उपयोग करते हैं।

उत्तराखंड में विशेष क्या है?

उत्तराखंड में विशेष ‘चार धाम’ है, जो बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री हैं।

1- उत्तराखंड पुरापाषाण काल में भी मौजूद था

खुदाई करने वालों और पुरातत्वविदों के अनुसार, यहाँ प्रागैतिहासिक काल से ही निवास रहा है क्योंकि यहाँ पुरापाषाण काल के उपकरण भी पाए गए हैं।

2- झोड़ा है पारंपरिक नृत्य रूप

भारत के कई लोग शादी के नृत्य के कुछ कदम जानते हैं, लेकिन वे इस नृत्य रूप के नाम को नहीं जानते। इसे ‘झोड़ा’ कहा जाता है।

3- उत्तराखंड सेना को सबसे अधिक अधिकारी देता है

SSB क्रैक की एक रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश के बाद उत्तराखंड वह दूसरा राज्य है जो भारतीय सेना को सबसे अधिक सैनिक देता है। अपने छोटे भूगोल के बावजूद, इसकी रक्षा में योगदान सराहनीय है।

4- शीर्ष सैन्य और सुरक्षा पदों पर उत्तराखंड के लोग

उत्तराखंड से कई प्रसिद्ध व्यक्तित्व हैं जो महत्वपूर्ण पदों पर आसीन हैं, जैसे कि:

पदनाम
पूर्व सेना प्रमुखबिपिन रावत
सैन्य संचालन के महानिदेशकअनिल भट्ट
भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारअजीत डोभाल
भारतीय तटरक्षक प्रमुखराजेंद्र सिंह
पूर्व नौसेना प्रमुखएडमिरल देवेंद्र कुमार जोशी
भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के प्रमुखअनिल धस्माना

5- संस्कृत उत्तराखंड की आधिकारिक भाषा

2010 में, उत्तराखंड हिंदी के बाद संस्कृत को राज्य की दूसरी आधिकारिक भाषा बनाने वाला भारत का पहला राज्य बना।

6- उत्तराखंड में भारत का दूसरा सूर्य मंदिर

यह तथ्य लोगों को ज्ञात नहीं होगा है कि प्रसिद्ध कोणार्क मंदिर या उड़ीसा और कश्मीर के सूर्य मंदिर के बाद, उत्तराखंड का कटारमल सूर्य मंदिर इस श्रेणी में आता है।

7- ऋषिकेश है विश्व की योग राजधानी

ऋषिकेश युवाओं के बीच राफ्टिंग और साहसिक गतिविधियों के लिए प्रसिद्ध है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह पूरे विश्व की योग राजधानी है? यह उत्तराखंड का एक और अद्भुत तथ्य है।

8- एकमात्र राज्य जहां वन क्षेत्र बढ़ रहा है

उत्तराखंड में वन क्षेत्र में मामूली वृद्धि देखी गई है, जो 2 वर्ग किलोमीटर (2018 में 24,303 वर्ग किलोमीटर से 2021 में 24,305 वर्ग किलोमीटर) तक बढ़ी है।

9- विश्व का सबसे ऊंचा शिव मंदिर

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित तुंगनाथ मंदिर विश्व का सबसे ऊंचा शिव मंदिर है। हाल ही में यह धार्मिक स्थल से अधिक एक पर्यटन स्थल बन गया है। इसके अलावा, यह उत्तराखंड के पंच केदारों में से एक है।

10- नंदा देवी राज जात

नंदा देवी राज जात विश्व की सबसे लंबी तीर्थ यात्रा है खुशी की देवी के रूप में जानी जाने वाली नंदा देवी राज्य में अन्य देवताओं के बीच एक लोकप्रिय देवी हैं। उत्तराखंड के बारे में एक तथ्य यह है कि नौती गांव से शुरू होकर रूपकुंड में समाप्त होने वाली नंदा देवी राज जात विश्व की सबसे लंबी तीर्थ यात्रा है।

Join WhatsApp Group
Jago Pahad Desk

"जागो पहाड" उत्तराखंड वासियों को समाचार के माध्यम से जागरूक करने के लिए चलाई गई एक पहल है।

http://www.jagopahad.com