CBSE बोर्ड मार्किंग सिस्टम में बदलाव, 10वीं-12वीं के छात्रों को नहीं मिलेगा डिवीजन और डिस्टिंक्शन

सीबीएसई बोर्ड 10वीं 12वीं की परीक्षा से पहले एक बड़ा बदलाव किया गया है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी CBSE कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं में कोई डिवीजन या डिस्टिंक्शन नहीं देगा.

सीबीएसई परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने कहा कि कोई समग्र विभाजन, अंतर या अंकों का योग नहीं दिया जाएगा.

संयंम भारद्वाज ने कहा कि बोर्ड अंकों के प्रतिशत की गणना, घोषणा या सूचना नहीं देता है. उन्होंने कहा कि अगर उच्च शिक्षा या रोजगार के लिए अंकों का प्रतिशत आवश्यक है, तो गणना, यदि कोई हो, प्रवेश संस्थान या नियोक्ता द्वारा की जा सकती है. इससे पहले, सीबीएसई ने मेरिट लिस्ट जारी करने की प्रथा को भी खत्म कर दिया था. इससे बोर्ड एग्जाम टॉपर्स की लिस्ट भी जारी नहीं होती है.

ऐसे तैयार होगी CBSE Marksheet

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने दसवीं और बारहवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं के लिए प्रतिशत गणना के मानदंडों को स्पष्ट करते हुए एक नोटिस जारी किया है. परीक्षा उपनियमों का हवाला देते हुए, नोटिस में इस बात पर जोर दिया गया है कि कोई समग्र डिवीजन, डिस्टिंक्शन, एग्रीगेट नहीं दिया जाएगा. अगर किसी छात्र ने पांच से अधिक विषय लिए हैं, तो सर्वोत्तम पांच विषयों का निर्धारण करके मार्कशीट तैयार की जाएगी.

CBSE Board डेटशीट का इंतजार

सीबीएसई बोर्ड द्वारा अगले साल होने वाली परीक्षा की डेटशीट जारी हो गई है. कक्षा 10वीं और 12वीं के लिए डिटेल्ड डेटशीट जारी होने वाली है. सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट cbse.gov.in पर सब्जेक्ट वाइज डेटशीट जारी कर दी जाएगी. इस साल, CBSE Board 10वीं और 12वी कक्षा में मिलाकर 35 लाख से अधिक छात्रों के रजिस्ट्रेशन कराया है. अधिकारी जल्द ही समय सारिणी जारी करेंगे. विद्यार्थियों को परीक्षा की तैयारी गंभीरता से शुरू कर देनी चाहिए.


Jago Pahad Desk

"जागो पहाड" उत्तराखंड वासियों को समाचार के माध्यम से जागरूक करने के लिए चलाई गई एक पहल है।

http://www.jagopahad.com