Logo Jago pahad news

त्रिवेणी घाट ऋषिकेश – Triveni Ghat Rishikesh

त्रिवेणी घाट ऋषिकेश (Triveni Ghat Rishikesh)

त्रिवेणी घाट ऋषिकेश का एक लोकप्रिय और पूजनीय स्थल है। यह गंगा नदी के किनारे स्थित है और इसकी आध्यात्मिक महत्ता के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ प्रतिदिन हजारों श्रद्धालु स्नान और धार्मिक अनुष्ठान करने आते हैं।

धार्मिक महत्व के अलावा, त्रिवेणी घाट साहसिक गतिविधियों जैसे राफ्टिंग के लिए भी प्रसिद्ध है। शाम की आरती यहाँ का एक अद्भुत दृश्य है, जहाँ भक्त नदी की पूजा करते हैं और दीप प्रवाहित करते हैं।

त्रिवेणी घाट फोटोग्राफी के शौकीनों के लिए भी शानदार स्थान है, जहाँ गंगा और पहाड़ियों के सुंदर दृश्य कैद किए जा सकते हैं। यहाँ कई दुकानें हैं, जहाँ से स्मृति चिह्न, कपड़े और स्थानीय हस्तशिल्प खरीदे जा सकते हैं।

त्रिवेणी घाट आने का सबसे अच्छा समय

Best time to visit

त्रिवेणी घाट आने का सबसे अच्छा समय सर्दियों में नवंबर से फरवरी तक है। इस दौरान मौसम सुहावना होता है और तापमान 10°C से 20°C के बीच रहता है, जो बाहर घूमने के लिए आदर्श है। घाट पर भीड़ कम होती है और आप शांति से इसकी सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।

अगर आप धार्मिक और सांस्कृतिक त्योहारों का आनंद लेना चाहते हैं, तो मार्च से जून तक आना अच्छा है। इस समय गंगा दशहरा, राम नवमी, शिवरात्रि जैसे त्योहार धूमधाम से मनाए जाते हैं। घाट पर भीड़ और उत्सव का माहौल होता है।

जुलाई से सितंबर तक के मानसून के मौसम में भारी बारिश के कारण यात्रा से बचना चाहिए।

त्रिवेणी घाट का इतिहास

Triveni Ghat Rishikesh

त्रिवेणी घाट ऋषिकेश का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। इसका इतिहास प्राचीन और समृद्ध है। माना जाता है कि महाभारत के समय भगवान कृष्ण ने यहाँ आकर गंगा में स्नान किया था। समय के साथ घाट का कई बार जीर्णोद्धार हुआ। वर्तमान इमारत 1889 में टिहरी के राजा ने बनाई थी, जो पारंपरिक और आधुनिक वास्तुकला का मिश्रण है।

त्रिवेणी घाट को गंगा, यमुना और सरस्वती नदियों का संगम माना जाता है, जिससे इसकी आध्यात्मिक महत्ता बढ़ जाती है। इस घाट ने कई महत्वपूर्ण घटनाओं और स्वतंत्रता संग्रामों को देखा है। आज, यह दुनियाभर के पर्यटकों के लिए एक प्रमुख स्थल है, जहाँ वे पवित्र नदी में स्नान और धार्मिक अनुष्ठान करते हैं। त्रिवेणी घाट का इतिहास और आध्यात्मिक महत्व इसे ऋषिकेश का एक महत्वपूर्ण स्थल बनाते हैं।

त्रिवेणी घाट की प्रमुख आकर्षण

Triveni Ghat Rishikesh

शाम की आरती:

  • श्रद्धालु पवित्र गंगा नदी की पूजा करते हैं और यह एक अद्भुत दृश्य होता है।

राफ्टिंग:

  • साहसिक गतिविधियों के प्रेमियों के लिए रोमांचक राफ्टिंग के अवसर हैं।

खरीदारी:

  • घाट पर स्मृति चिह्न, कपड़े और स्थानीय हस्तशिल्प की दुकानें हैं।

गंगा स्नान:

  • पवित्र गंगा नदी में स्नान को एक पवित्र अनुष्ठान माना जाता है।

फोटोग्राफी:

  • घाट गंगा नदी के शानदार दृश्यों के साथ फोटोग्राफी के लिए आदर्श स्थान है।

त्रिवेणी घाट कैसे पहुँचें

Bus service

त्रिवेणी घाट, ऋषिकेश का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। यहाँ पहुँचने के कई तरीके हैं:

  • दिल्ली से कार: अपनी कार चला सकते हैं या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। यात्रा का समय 6-7 घंटे है।
  • दिल्ली से ट्रेन: दिल्ली से हरिद्वार तक ट्रेन लें, फिर हरिद्वार से ऋषिकेश तक बस या टैक्सी लें। कुल समय 5-6 घंटे है।
  • हवाई जहाज: निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो ऋषिकेश से 35 किलोमीटर दूर है। हवाई अड्डे से टैक्सी या बस लें। यात्रा का समय लगभग 1 घंटा है।

ऋषिकेश पहुँचने पर, त्रिवेणी घाट पैदल, ऑटो-रिक्शा या टैक्सी से आसानी से पहुँच सकते हैं।

Location

Triveni Ghat Rishikesh (FAQ)

  • त्रिवेणी घाट पर गंगा आरती का समय क्या है?
    Rishikesh Ganga Aarti

    त्रिवेणी घाट पर गंगा आरती सुबह 5.45 बजे से 6.30 बजे और शाम 6.00 बजे से 7.00 बजे तक होती है।

  • त्रिवेणी घाट पर कौन-कौन सी नदियाँ मिलती हैं?

    त्रिवेणी घाट पर गंगा, यमुना और सरस्वती नदियाँ मिलती हैं। यह ऋषिकेश में सबसे लोकप्रिय स्नान घाट है।

  • त्रिवेणी घाट क्यों प्रसिद्ध है?

    त्रिवेणी घाट ऋषिकेश, उत्तराखंड में स्थित है और यहां भारत की तीन प्रमुख नदियाँ – गंगा, यमुना और सरस्वती – मिलती हैं। इस संगम को ‘संगम’ भी कहा जाता है और यह हिंदुओं के लिए महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है, जो हर साल अनगिनत भक्तों को आकर्षित करता है।

Join WhatsApp Group
Jago Pahad Desk

"जागो पहाड" उत्तराखंड वासियों को समाचार के माध्यम से जागरूक करने के लिए चलाई गई एक पहल है।

http://www.jagopahad.com