दिल्ली महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित शहर, हर रोज रेप के 3 मामले होते हैं दर्ज 

Delhi Crime Against Women: एनसीआरबी रिपोर्ट के मुताबिक साल 2022 में दिल्ली में महिलाओं के अपहरण की 3,909 घटनाएं दर्ज की गईं. दहेज हत्या से संबंधित 129 मामले दर्ज किए गए.

Delhi News: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली क्राइम खासकर महिलाओं के खिलाफ हिंसा के लिए सबसे असुरक्षित है. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ओर से जारी वार्षिक अपराध रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली महिलाओं के लिहाज से देश का सबसे खतरनाक महानगर है. एनसीआरबी रिपोर्ट के मुताबिक देश की राजधानी में प्रतिदिन 3 बलात्कार के मामले दर्ज होते हैं. एनसीआरबी की ओर से 3 दिसंबर 2023 को जारी क्राइम इन इंडिया रिपोर्ट से साफ है कि साल 2022 में शहर क्षेत्र में महिलाओं के खिलाफ अपराध की 14,158 घटनाएं दर्ज की गईं, जो लगातार तीसरे साल 19 महानगरीय शहरों में सबसे अधिक है. हर एक लाख महिलाओं पर लगभग 186.9 अपराध दर्ज किए गए. एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार इसमें 1,204 बलात्कार के मामले शामिल हैं.

रिश्तेदारों की क्रूरता के 4847 मामले आये सामने

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में महिलाओं के अपहरण की 3,909 घटनाएं दर्ज की गईं. शहर में दहेज हत्या से संबंधित कुल 129 मामले दर्ज किए गए. दिल्ली में पतियों या उनके रिश्तेदारों द्वारा क्रूरता की 4,847 घटनाएं दर्ज की गईं. एनसीआरबी की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली महिलाओं के लिए देश का सबसे असुरक्षित महानगर है, जहां प्रतिदिन औसतन तीन बलात्कार के मामले दर्ज होते हैं.

ऐसी घटनाओं को रोकना मुश्किल

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार बलात्कार और हमले की अधिकांश घटनाओं में पीड़िता और आरोपी आम तौर पर एक-दूसरे को जानते हैं. पुलिस के लिए ऐसी घटनाओं को होने से सीधे रोकना मुश्किल होता है, क्योंकि पीड़िता शिकायत दर्ज करने से बचती हैं. 

औसत अपराध में बढ़ोतरी

एनसीआरबी के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार शहर में बच्चों के खिलाफ अपराध की 7,400 घटनाएं दर्ज की गईं, जिनमें हत्या की 22 घटनाएं शामिल थीं. वरिष्ठ नागरिकों (60 वर्ष या उससे अधिक आयु) के खिलाफ अपराध की घटनाएं 2021 में 1,166 मामलों से बढ़कर 2022 में 1,313 मामले हो गईं. शहर में साइबर अपराध के मामले 2022 में दोगुने हो गए. 2021 में 345 मामलों से बढ़कर 2022 में यह संख्या 685 मामलों तक पहुंच गई. शहर में हत्या की कुल 501 घटनाएं दर्ज की गईं. इसमें मानव तस्करी के 106 मामले भी दर्ज किए गए. रिपोर्ट में कहा गया है कि 2022 में 113 लड़कियों की तुलना में दिल्ली में कम से कम 492 नाबालिग लड़कों की तस्करी की गई.


Jago Pahad Desk

"जागो पहाड" उत्तराखंड वासियों को समाचार के माध्यम से जागरूक करने के लिए चलाई गई एक पहल है।

http://www.jagopahad.com