उत्तराखंड की महिला के हाथ का चटनी का प्रधानमंत्री पर चला जादू , सीधे बुला लिया दिल्ली PM की होगी खास मेहमान

उत्तराखंड की लोक कला और लोक संस्कृति के साथ-साथ यहां की खानपान के पहचान पूरे देश दुनिया में की जाती हैं. उत्तरकाशी की 40 वर्षीय सुनीता रौतेला के चटनी का जादू प्रधानमंत्री पर ऐसा चढ़ा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सुनीता रौतेला को स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए विशेष अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया है।

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से उन्हें आमंत्रण पत्र मिला है। इसके बाद उनकी खुशी का ठिकाना नहीं है। इस आमंत्रण की कहानी भी अगल है। दरअसल, चार माह पहले सुनीता ने पीएम नरेंद्र मोदी को चटनी का एक जार भेजा था। वह खुशी जताते हुए कहती हैं, आचार अच्छा बना होगा। हमारी मेहनत इतनी बेहतर थी कि पीएम ऑफिस की नजर उस पर पड़ी।

दरअसल, सुनीता उत्तरकाशी के दूर-दराज इलाके में स्थित एक गांव की सीमांत सेब उत्पादक हैं। वे ग्रामीणों के साथ मिलकर सेब की चटनी और जैम बनाने का कार्य करती हैं उत्तराखंड के गांवों में रहनेवाली एक महिला ऐसी ही खुशकिस्मत लोगों में से एक है, जिनकी बनाई चटनी का स्वाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इतना पसंद आया कि उन्होंने उस महिला को 15 अगस्त के मुख्य कार्यक्रम के लिए नई दिल्ली बुला लिया, जहां वह पीएम के खास मेहमान के रूप में शामिल होंगी।

बताया जा रहा है कि 40 साल की सुनीता रौतेला अपने पति के साथ उत्तरकाशी के झाला गांव की रहने वाली हैं रौतले ने अपने पति और करीब 162 गांव वालों को साथ लेकर एक फार्मर-प्रोड्यूसर ऑर्गनाइजेशन (FPO )- उपला तकनोर कृषक उत्पादक संगठन बनाया। यह संगठन पिछले साल मई के महीने में अस्तित्व में आय़ा था।

संस्थान ने सेब की चटनी और जैम बनाने का काम शुरू किया। इस साल मार्च में सुनीता ने पीएम मोदी को चटनी भेजी। करीब दो माह बाद यानी मई माह में गांव के प्रधान को पीएमओ की ओर से एक पत्र मिला इसमें सुनीता के अचार और उनके प्रयासों की पीएम मोदी ने सराहना की थी।

Jago Pahad Desk

"जागो पहाड" उत्तराखंड वासियों को समाचार के माध्यम से जागरूक करने के लिए चलाई गई एक पहल है।

http://www.jagopahad.com