उप जिलाधिकारी कालसी की अध्यक्षता में लखवाड स्टेडियम में जनसुनवाई कार्यक्रम का हुआ आयोजन, बांध प्रभावित किसानों ने किया प्रतिभाग

जिलाधिकारी देहरादून द्वारा गठित उप जिलाधिकारि कालसी कि अध्यक्षता में हुई जन सुनवाई लखवाड़ स्टेडियम में सम्पन्न हुई। इस जनसुनवाई में ग्राम लखवाड़, ग्राम धनपौऊ, तथा ग्राम खाती के बांध प्रभावित sc-st किसानों ने प्रतिभाग किया। कार्यक्रम का संचालन मंडी समिति चकराता के चेयरमैन एवं लखवाड़ बांध प्रभावित sc-st जन कल्याण समिति के अध्यक्ष जगमोहन सिंह चौहान ने किया। उन्होंने जनसुनवाई कार्यक्रम के बारे में विस्तार से उपस्थित बांध विस्थापितों को अवगत करवाया। तथा आग्रह किया कि आप अपनी समस्याओं को समिति के सामने रखें, जिसे प्रशासन स्तर से आपकी समस्याओं का निराकरण को सके।

इस कार्यक्रम में सबसे पहले ग्राम लखवाड़ की चमो देवी ने प्राथना पत्र देते हुए बताया कि पिछले 60 बरसो से जमुना पुल लखवाड़ में उनका होटल है, लेकिन जिस भूमि पर होटल बना हुआ है कई बार अपना पत्र देने के बाद भी उनकी जमीन जो उनके कब्जे में हैं और उस पर होटल स्थापित है वह उनके नाम नहीं हो रही है। उन्होंने परगना अधिकारी से सर्वे करवा कर के उनकी भूमि उनके नाम करने का निवेदन किया।
लूदर सिंह चौहान ग्राम लखवाड़, अमीर सिंह चौहान ने मांग रखी कि , सिंचाई नेहरो, सीढ़ी नुमा खेतों की दीवारों, का मोके पर सर्वे करके मुलयाकन किया जाए।

इसी प्रकार सुरेंद्र प्रताप सिंह, विश्व विजय सिंह, समिति के अध्यक्ष जगमोहन सिंह , आदि ने यमुना पुल लखवाड़ में निकट समय में अधिग्रहण की जा रही भूमि का छेत्रफल बहुत कम दिखाया गया इसका दुबारा सर्वे करने की मांग की गई, क्यूंकि मौके पर भूमि बहुत अधिक है।
ग्राम खाती से आए बांध प्रभावित लोगों ने मांग की की अगर बांध निर्माण के फलस्वरुप गांव का पेयजल सुख जाए तो शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाया जाए। बांध प्रभावित क्षेत्र में निर्माण के फलस्वरुप मलवा पत्थर आदि निकलता है तो उसको किसानों के खेतों में ना डाला जाए। दूसरी मांग उन्होंने ग्राम खाती के काटोई खेड़ा मे करम सिंह, पूरन सिंह, व झूलो देवी आदि के भौमिक अधिकार वर्ष 1404 फ.से खसरा नंबर 1757रकबा न. 0.1400है. पर आपत्ति प्रकट प्रकट की है।

ग्राम लखवाड़ के चतर सिंह ने मांग रखी की जिस जमीन का अधिग्रहण किया जाना है, उसकी जगह जमीन दी जाए और अगर यह संभव नहीं हो तो कम से कम 7500000 रुपए प्रति बीघा कि दर पर भूगतान किया जाए।
ग्राम धनपौऊ के भगत सिंह फौजी तथा चमन सिंह ने मां ग की है कि उनके गांव के गुनाट खेड़ा की जिस भूमिका अधिग्रहण बहुत पहले किया गया था लेकिन उस समय सिंचाई विभाग ने हमारी कुछ जमीनें छोड़ दी थी, उन्होंने मांग की है कि दुबारा सर्वे करके छूट गई भूमि का अधिग्रहण किया जाए, क्योंकि अवषेस भूमि बांध प्रभावित क्षेत्र में आ रही है।

आज हुई जनसुनवाई में ग्राम पंचायत लखवाड़, धनपौऊ, खाती के प्रधान एवं धनपौऊ छेत्र पंचायत सदस्य, रूचि देवी, पुष्पा देवी, रीमा नेगी तथा उत्तराखंड जल विद्युत निगम से डीजीएम शिवदास , अधिशासी अभियंता डंगवाल, सहायक अभियंता बिरेंदर लाल, निगम के तहसीलदार टीकाराम भट्ट समाघात अध्ययन समिति के प्रोफ़ेसर रावत, नायब तहसीलदार कालसी सुरेंद्र सिंह, सहायक खंड विकास अधिकारी कालसी,आदी लोग उपस्थित थे।

बांध प्रभावित छेत्र से अमीर सिंह चौहान, लूदर सिंह, भगत सिंह रावत, के. मेहर सिंह, मुकेश सेमवाल, चमन सिंह, संसार सिंह, सुरेंद्र प्रताप सिंह, विश्व विजय सिंह, राकेश चौहान,ग्राम खाती से अनिल राठोर, सुल्तान सिंह, प्रभु सिंह, बच्चन सिंह, जबर सिंह राठौर, अतर सिंह राठोर, आदि दर्जनों लोग जनसुनवाई कार्यक्रम में उपस्थित थे।

ग्राम लखवाड़ से सुरजीत कुमार अग्रवाल, सुशील दयाल, रमेश नेगी, विनय प्रताप सिंह, शुभम नेगी आदि बांध प्रभावित सदस्य मौजूद थे।

Jago Pahad Desk

"जागो पहाड" उत्तराखंड वासियों को समाचार के माध्यम से जागरूक करने के लिए चलाई गई एक पहल है।

http://www.jagopahad.com